Search
  • Ujjawal Trivedi

Is Bollywood ready for the change: क्या बॉलीवुड बदलाव के लिये तैयार है


पहले नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की 'घूमकेतु' फिर अमिताभ बच्चन और आयुष्मान खुराना की 'गुलाबो सिताबो' और अब विद्या बालन की 'शकुंतला देवी' यह तीनों वो फिल्में हैं जो एक के बाद एक थिएटर रिलीज़ का रास्ता छोड़कर सीधे डिजिटल मीडियम पर प्रीमियर हो रही है । यह सारा फैसला कोरोना लॉक डाउन के बाद आए हमारे लाइफ स्टाइल में बदलाव को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।


सिनेमाघर और मल्टीप्लैक्स फिलहाल बंद है और कब खुलेंगे कुछ कहा नहीं जा सकता ।

इससे भी बड़ा सवाल यह है कि जब खुलेंगे तब क्या लोग सिनेमाघरों में फिल्म देखने जाएंगे !!






वक्त बता कर नहीं बदलता


बस यही वह सवाल है जिसका जवाब कहीं ना कहीं अब साफ होने लगा है । लोग सिनेमाघरों में जाना पसंद नहीं करेंगे इसी वजह से बॉलीवुड प्रोड्यूसर्स ने अपनी मार्केट रणनीति बदलनी शुरू कर दी है । इन तीनों फिल्मों का डिजिटल मीडियम पर रिलीज़ होना बाज़ार के बदलने का बहुत बड़ा संकेत है


यह अचानक आया ऐसा बदलाव है जिसका अंदाजा हम आज से कुछ हफ्ते पहले नहीं लगा सकते थे । इस बीच खबर यह भी आई कि थिएटर मालिक और मल्टीप्लेक्स चेन मालिक बॉलीवुड से काफी खफा हैं उनको ऐसा लग रहा है कि निर्माताओं ने उन्हें दरकिनार कर दिया है जबकि असल वजह यह है कि कोई भी बॉलीवुड निर्माता अपने पैसे को फंसाना नहीं चाहता । सब जानते हैं कि मार्केट में पैसा घूमता है एक जगह से आता है तो दूसरी जगह जाता है अगर पैसा कहीं रुक जाए इसका मतलब यह होता है कि व्यापार रुक गया और कोई भी व्यापारी ये नहीं चाहेगा कि उसका व्यापार रूक जाये ।


सब जानते हैं यह मजबूरी में लिए गए फैसले हैं और इससे होने वाली कमाई पर भी भारी असर पड़ेगा लेकिन फिलहाल इसके अलावा और कोई चारा दिखाई नहीं देता।


बदलते वक्त की स्वीकारना ही है समझदारी


अब बात करते हैं बड़े बजट की फिल्मों के निर्माताओं की । उन्हे ये फैसला लेने में अभी और थोड़ा वक्त लगे सकता है । सच तो ये है कि हालात बदलने में देर नहीं लगती लेकिन हालात बदल गए हैं यह स्वीकार करने में लंबा वक्त लग जाता है । हो सकता है अगले तीन से छ: महीने में बड़ी फिल्मों के प्रोड्यूसर्स को यह एहसास हो जाए कि दुनिया बदल चुकी है। दुनिया अक्सर बिना बताए ही बदलती है ऐसे में वो अपनी फिल्मों से जितने मुनाफे की उम्मीद कर रहे थे हो सकता है कि उतना मुनाफा ना हो लेकिन बदलते वक्त के साथ चलना भी उतना ही जरूरी होता है


मेरे अनुभव के आधार पर मुझे लगता है कि बड़ी फिल्मो के प्रोड्यूसर भी अगले 3 से 6 महीने के बीच डिजिटल मीडियम पर रिलीज़ होने का रास्ता अपना लेंगे । बदलता वक्त किसी के नियंत्रण में नहीं हैं ऐसे में समय रहते फैसला लेना जरूरी होगा । फिलहाल चिंता है थिएटर और मल्टीप्लेक्स मालिकों की कि अब उन पर बाज़ार के बदलते स्वरूप का क्या असर होगा क्योंकि ज्यादातर थिएटर और मल्टीप्लेक्स काफी बड़ी ज़मीन खरीदकर बनाए जाते हैं और उनके Infrastructure में करोड़ो रूपये की लागत होती है । हमारे आस पास बहुत कुछ बदलने वाला है । कई सारे लोगो के व्यापार करने और नौकरी करने के तरीके भी बदलने वाले है । ये सब थोडा मुश्किल तो ज़रूर होगो लेकिन निश्चित तौर पर ये बदलाव हमें किसी नई रोशनी और सुधार की तरफ ही लेकर जायेगे।



मै अपने अगले ब्लॉग में इस बात पर चर्चा करूंगा कि नैटफ्लिक्स, प्राइम वीडियो और हॉट स्टार पर जिस तरह के शो है क्या उनसे टक्कर लेने के लिये बॉलीवु़ड तैयार है !!!

19 views

+919223306655

©2020 by Ujjawal Trivedi. Designed and maintained by MOHD ALTAMASH