Search
  • Ujjawal Trivedi

मुश्किल समय में देश से भागे - बॉलीवुड के नकली हीरो

हमारे देश की अलग-अलग तस्वीरें सामने आ रही हैं । एक तरफ तपती धूप में सड़क पर लाठी लेकर खड़ी हैं छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा की गर्भवती डीएसपी जो कोरोना की जंग में देश के आम लोगों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर डटी हुई हैं बिना इस बात की परवाह किए कि वह 5 महीने के गर्भ से हैं तो दूसरी ओर हैं वो चेहरे जिन्हें आपने अपना हीरो बना रखा है ।




ये वो चेहरे हैं जब देश की जरूरत होती है तब ये देश छोड़कर भाग जाते हैं विदेशों में छुट्टियां मनाने और जब इन्हें पैसा कमाना होता है हीरो बनना होता है आपके सामने अपनी झूठी शान दिखानी होती है तब ये आपके सामने कटोरा लेकर खड़े हो जाते हैं और खुद को बॉलीवुड की दुनिया का बेताज बादशाह बोलते हैं ।




अब तक आप सभी की आंखों पर पट्टी बंधी हुई थी लेकिन आज खुल चुकी है । आज आप पहचान चुके हैं कि असली सिंघम कौन है ? असली दबंग कौन है ? यह कोई खान कपूर या पॉपुलर सरनेम वाले नहीं बल्कि वो आम लोग हैं जो आज मुसीबत के समय में आपके साथ खड़े हैं ।



आज ये आपका दर्द समझ रहे हैं। ये वो नहीं है जो आपको नसीहत तो देते है घर में रहने की और खुद दूसरे देशों में छुट्टियां मनाते हुए अपनी फोटो पोस्ट करके आपका मुंह चिढाते है ।


असली हीरो वो है जिन्हे आप स्क्रीन पर तो नहीं देखते पर आज इस मुसीबत की घड़ी में ये आपके दिल का दर्द समझ कर आपके साथ खड़े होना चाहते हैं । इस जंग में आपका साथ देना चाहते हैं । अब तय आपको करना है कि क्या अब भी आप अपनी आंखों पर पट्टी बांधकर बॉलीवुड के चिकने चेहरों की तरह नकली बनना चाहते हैं या वास्तव में उन असल हीरो को अपनी लाइफ का रोल मॉडल बनाना चाहते हैं जो इस वक्त बार-बार इस ये साबित कर रहे हैं कि असली हीरो क्या होता है ।



अगर प्रेरणा लेनी है, कोई सीख लेनी ही है तो क्यों ना ऐसे लोगों से लें जो असल जिंदगी में आपके हमारे और पूरे देश के और इंसानियत के काम आ रहे हैं ।


ऐसे लोगों से क्या सीखना जो मुसीबत के समय मैदान-ए-जंग ही छोड़ कर भाग जाएं और सिर्फ जरूरत पड़ने पर ही अपनी सूरत दिखाएं । ऐसे लोगों को स्वार्थी कहा जाता है ऐसे लोगों से सीख ली नहीं जाती बल्कि ऐसे लोगों को सीख दी जाती है ।


आप गलती मत कीजिए बल्कि अब तक जो गलतियां की है उनमें सुधार कीजिए । आप जिसे फॉलो कर रहे थे असल में उन्हें ये सिखाने की जरूरत है कि हीरो होता क्या है ? कैमरे के सामने उछल कूद करने वाला हीरो नहीं कहलाता ।



कहानियों में हीरो का किरदार निभाने वाला हीरो नहीं कहलाता बल्कि सच्चा हीरो वो होता है जो असल जिन्दगी में सामने आई असली मुसीबत के क्षणों में अपनी वीरता दिखाता है। आम लोगों के साथ खड़े होने वाला और सब का दर्द समझने वाला ही सच्चा हीरो होता है।







Steroids के बल पर नकली बॉ़डी बनाने वाली इस खोखली दुनिया के नकली चेहरों के गाल पर तमाचा मारिये । अपनी मेहनत का पैसा और बेशकीमती वक्त इनकी तिजोरियां भरने में मत लुटाइये । इन्हे ना तो कल आपकी फिक्र थी ना आज है ।

2,973 views