Search
  • Ujjawal Trivedi

कोरोना का असर : सीधे OTT पर क्यों रिलीज़ नहीं हो रही हैं बॉलीवुड की नयी फिल्में

कोरोना का असर : सीधे OTT पर क्यों रिलीज़ नहीं हो रही हैं बॉलीवुड की नयी फिल्में



कोरोना की वजह से पूरी दुनिया रूकी हुई है और इसका असर Bollywood Industry पर भी पड़ा है। सबसे पहले मार्च के तीसरे हफ्ते में रिलीज़ होने वाली फिल्म ‘सूर्यवंशी’ की रिलीज़ रूक गई। इसके बाद रणवीर सिंह की ‘83’ सलमान खान की ‘राधे’ अक्षय कुमार की ‘लक्ष्मी बॉम्ब’ और वरूण धवन की ‘कुली नंबर वन’ भी अब Lockdown के खत्म होने का इंतज़ार कर रही है। ये सारी बड़ी फिल्मे है जिनकी लागत अस्सी करोड़ रूपयो से भी ज्यादा है। ऐसे मे सवाल ये है कि ये फिल्मे OTT जैसे Netflix, Disney HotStar या Amazon Prime पर रिलीज़ क्यों नही की जा रही है । इस सवाल का जवाब यही है कि इन फिल्मो को OTT पर रिलीज़ करने से Producers को करोड़ो रूपयों का नुकसान होगा।


आइये समझते है थियेटर रिलीज़ से कैसे होती है कमाई


बॉलीवुड में फिल्में बनाने का काम Producer करता है और ज्यादातर बड़े Producers जैसे Fox Star, Zee , Reliance, Dharma, Yash Raj Films अपनी फिल्मो को distribute भी खुद ही करते है। जब भी कोई बड़ी फिल्म थियेटर में रिलीज़ होती है तो इसके पहले हफ्ते की कमाई का 60 फीसदी हिस्सा फिल्म के distributors की जेब में जाता है और थियेटर वालों को करीब 40 फीसदी हिस्सा मिलता है। ज़ाहिर है कि पहले हफ्ते की कमाई सबसे ज्यादा होती है इसीलिये सबकी कोशिश होती है कि फिल्म को बड़ी opening मिले तो ज्यादा कमाई होगी। दूसरे हफ्ते तक अगर फिल्म थियेटर में रूक जाती है तो इससे होने वाली कमाई में थियेटर मालिको को मिलने वाला हिस्सा बढकर करीब 60 फीसदी तक हो जाता है और distributors को 40 फीसदी हिस्सा ही मिलता है। तीसरे हफ्ते तक अगर फिल्म सिनेमाहॉल में लगी रहती है तो distributors को 30-35 फीसदी की कमाई होती है और थियेटर वालो को 65 फीसदी तक का हिस्सा मिल जाता है।


कहने का मतलब ये है कि थियेटर मालिको को दूसरे हफ्ते से ही ज़्यादा कमाने का मौका मिलता है और पहले हफ्ते की कमाई का बड़ा हिस्सा distributors/Producers की जेब में जाता है।



किन शर्तो पर मिलती है OTT Release



जब फिल्म थियेटर से उतर जाती है तब फिल्म को OTT पर 3 से 5 साल तक का करार करके रिलीज किया जाता है। इसकी एक तय कीमत दी जाती है। आमतौर पर ये कीमत फिल्म की कुल लागत की 20- 25 फीसदी रकम होती है। इसके अलावा फिल्म को मिलने वाले कुल views के आधार पर भी Producers को उनका कुछ हिस्सा दिया जाता है।

ऐसे मे अगर फिल्में सीधे OTT पर रिलीज़ होने लगी तो Producers को भारी नुकसान होगा क्योकि OTT से उन्हे थियेटर जितनी कमाई होना संभव नही। खासकर तब जबकि फिल्म मे पैसा ये सोचकर लगाया गया हो कि इसकी वसूली थियेटर की कमाई से होने वाली है। यही वजह है कि बड़ी फिल्मो के Producers फिलहाल Lockdown खुलने के बाद हालात ठीक होने का इंतज़ार कर रहे है क्योकि इसके अलावा उनके पास कोई चारा भी नही है।




हाल ही मे करन जौहर का tweet भी यही बताता है कि बाकी के Producers की तरह वो भी अपनी फिल्मों को रिलीज़ करने के लिये Lockdown खुलने का इंतज़ार कर रहे है और किसी जल्दबाज़ी में नहीं है।

ये तो हुई बड़ी फिल्मो की बात अब बात करते है कम बजट वाली छोटी फिल्मों की । अगर Lockdown के बाद हालात संभलने में वक्त लगा और थियेटर खुलने की तारीख अक्टूबर-नवंबर तक जाती है तो ऐसे Producers जिन्होने बाज़ार से पैसा लेकर फिल्म मे लगाया है वो OTT का रूख कर सकते है क्योकि जैसे ही थियेटर शुरू होगे और लोगो के बीच से कोरोना का डर खत्म होगा तो पहले बड़ी फिल्मे रिलीज़ होगी और छोटी फिल्मो को और भी इंतज़ार करना पड़ेगा। छोटे Producers शायद इतना लंबा इंतज़ार ना कर पाये तो ऐसे में वो OTT का सहारा ले सकते है।

अब बात करते है उन फिल्मो की जो अभी बनने वाली है, तो हो सकता है कि अब Producers इस तैयारी के साथ फिल्म बनाये कि उन्हे अब OTT पर ही फिल्म को रिलीज़ करना पड़े ऐसे में वो अपनी लागत को उसी हिसाब से तय करेगे ताकि नुकसान से बचा जा सके। OTT के लिये भी ये कमाई का सुनहरा मौका है जब उनके Platform पर कोई फिल्म सीधे रिलीज़ होगी जिसे लोगो ने पहले थियेटर में नही देखा हो इस हालत में OTT के लिये इसकी ज्यादा कीमत दे पाना आसान होगा क्योकि ऐसी फिल्म को ज़्यादा views मिलेगे।

आने वाला समय Bollywood फिल्मो के लिये नया हो सकता है। बाज़ार में मन्दी है, लोग आने वाले लंबे समय तक Public places जैसे थियेटर में जाना नहीं चाहेगे। Lifestyle में आया ये बड़ा बदलाव अब Bollywood film producers को भी नयी तरह से सोचने पर मजबूर कर रहा है।

0 views

+919223306655

©2020 by Ujjawal Trivedi. Designed and maintained by MOHD ALTAMASH