Search
  • Ujjawal Trivedi

अदालत की मदद से क्या लोगो की सोच बदल पायेगा बॉलीवुड

देश के ज्यादातर न्यूज़ चैनलो को अपनी फिल्मो के प्रमोशन के लिए इस्तेमाल करने वाला बॉलीवुड दो न्यूज़ चैनल पर मुकदमा कर रहा है । यह खबर शायद आपको हैरान कर रही होगी लेकिन मैं आपको इसके ऐसे पहलू से अवगत कराना चाहता हूं जिस पर अभी तक किसी ने भी बात नहीं की है।


बॉलीवुड की गलतफहमी



न्यूज़ चैनल का लाइसेंस लेने से पहले आप सरकार को यकीन दिलाते है कि आप जनहित की खबरे दिखायेगे जिससे आम आदमी का सीधा सरोकार होगा लेकिन पिछले 4 महीनों को छोड़ दें तो आपको याद ही होगा कि कुछ सालों के दौरान किस तरह सारे न्यूज़ चैनल बड़ी बड़ी फिल्मों को प्रमोट करने का मार्केट टूल बन चुके थे।


जनहित और आम आदमी की आवाज़ सरकार तक पहुंचाने के लिए बने ये न्यूज़ चैनल फिल्म इंडस्ट्री को प्रमोट करने का एक बड़ा जरिया या यूं कहें कि उनकी PR Machinery का एक हिस्सा बनकर रह गए थे ।


किसी भी फिल्म के रिलीज से 2 हफ्ते पहले आधे-आधे घंटे के शो करना। उस फिल्म के characters को promote करना । बॉलीवुड के सितारो के आगे पीछे घूमकर उनको अपने न्यूज़ रूम में बुलाकर इंटरव्यू दिखाना और एक तरह से आम जनता से अपील करना कि वह इनकी फिल्म देखने जरूर जाए ।


इसमें गलती किसी चैनल की नहीं बल्कि जनता की भी है जो इन सारे तमाशों को देखकर TRP बढाती रही ।


यह सब पिछले कई सालों से चल रहा था इसी वजह से बॉलीवुड के लोग यह मान बैठे की जो न्यूज़ चैनल हैं वह भी बॉलीवुड का हिस्सा है और हम इन्हें जब चाहेंगे अपने हिसाब से इस्तेमाल करेंगे । पहली भूल यही हो गई कि बॉलीवुड ने इन चैनलो को अपनी PR Machinery का ही एक हिस्सा मान लिया ।



सुशांत मामले के बाद खुली जनता की आँखे

करीब 4 महीने पहले कुछ ऐसा हुआ जिसके बाद इन्हीं न्यूज़ चैनलों ने बॉलीवुड के सितारों से सवाल पूछने शुरू कर दिए और उन सवालों के जवाब बॉलीवुड के पास नहीं थे या यूं कहिए बॉलीवुड से कोई उन सवालों के जवाब देना ही नहीं चाहता था ।

मामला सुशांत सिंह राजपूत की अचानक मौत से जुड़ा था। जनता भावुक हो रही थी । सोशल मीडिया सुशांत से जुड़ी खबरों से भरा पड़ा था । लॉक डाउन की वजह से फिल्मे रिलीज हो नहीं रही थी । बॉलीवुड के लोगों को लगा कि यह मामला दस पांच दिनों का है यूं ही निबट जाएगा । लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं ।


आम जनता की सोच बदली


आज 4 महीने बीत चुके हैं फिल्में थियेटर में रिलीज नहीं हो रही हैं Bollywood के काम पर बुरा असर पड़ा है और इस बीच लोगों के सामने बॉलीवुड की एक नई सूरत भी सामने आ चुकी है। असल में देश की आम जनता को यह लगने लगा था कि पर्दे पर


हीरो का किरदार निभाने वाले यह लोग असल जिंदगी में भी हीरो की तरह ही सच्चाई का साथ देंगे लेकिन असलियत इसके बिल्कुल उलट रही और यही


बात जनता को नागवार गुजरी। आज जनता की सोच बदल चुकी है और उन्हे इस बात का अहसास हो चुका है कि जिनको वो असली का हीरो समझ रहे थे वो तो सिर्फ पर्दे के और कहानियों के ही हीरो है ।


ड्रग मामले के बाद बढ गया जनता का गुस्सा


इस बीच ड्रग वाला मामला भी निकल कर आया जो कि सुशांत मामले से ही जुड़ा था और इसमें भी कई बॉलीवुड चेहरों के नाम सामने आ गए । आम जनता का गुस्सा और बढ़ गया । पहले तो वह सिर्फ इस बात से परेशान थे कि बॉलीवुड से सुशांत के मामले में किसी ने कोई बात नहीं की और अब तो खुद बॉलीवुड वालों के नाम भी निकल कर सामने आने लगे थे । उधर न्यूज़ मीडिया भी लगातार इस तरह की खबरों को खबर कर रहा था ऐसे में हालत यह हो गई कि बॉलीवुड को यह समझ ही नहीं आया कि वह किसके पास जाए ना तो जनता बॉलीवुड की सुन रही है और ना ही न्यूज़ मीडिया ।


जनता और मीडिया इन दोनो की बेरूखी से परेशान होकर बॉलीवुड ने कोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया और ऐसी खबरों पर लगाम लगाने की मांग की जिसमें उनकी इंडस्ट्री की छवि धूमिल हो रही है।

यहां मामला प्रेस की आजादी का भी है और लोगों की सोच का भी और इस सबसे बड़ा सवाल यह है कि अदालत का दरवाजा खटखटाने से क्या आम जनता की सोच बदल सकती है ।


जनता और मीडिया की बेरूखी से परेशान बॉलीवुड


आज बॉलीवुड के बारे में जिस तरह की बातें हो रही हैं उससे एक बात तो साफ है कि लोगों के दिमाग में पहले जो बॉलीवुड की इमेज थी वह पूरी तरह से टूट चुकी है और बॉलीवुड के लोगों को यह समझ नहीं आ रहा है कि किया क्या जाए ?



हो सकता है इनमें से कुछ को ये अफसोस भी हो कि हम सुशांत मामले पर पहले क्यों नहीं बोले लेकिन वक्त हाथ से निकल चुका है। जनता अब दूसरे मूड में है। हाल ही में हमने देखा कि Sadak 2 की Release के दौरान आम जनता का गुस्सा बॉलीवुड पर किस तरह फूटा और उसके बाद तो आलम यह है कि बॉलीवुड के ज्यादातर सितारों ने अपने Social media handles पर comment box बंद कर दिए हैं और जब Trailer भी Release करते हैं तो उन्हें Dislike का नंबर हटाना पड़ता है क्योंकि पहले से ही पता है कि गालियां पड़ने वाली है


फिलहाल यह कहना गलत नहीं होगा कि बॉलीवुड अपने सबसे कठिन दौर से होकर गुजर रहा है जहां न तो न्यूज़ मीडिया उसके साथ खड़ा है और ना ही आम जनता लेकिन सवाल ये है इसके लिए जिम्मेदार कौन है ?

1,976 views

+919223306655

©2020 by Ujjawal Trivedi. Designed and maintained by MOHD ALTAMASH